‘राजस्व साझा फॉर्मूला’ केवल पेपर पर : चीनी मिलर्स न्यायालय में चुनौती देंगे…

0
424
Image Credits: ChiniMandi

मुंबई : चीनी मंडी

महाराष्ट्र देश के पहले राज्यों में से एक था जिसने 2016-17 सीजन में चीनी क्षेत्र के लिए राजस्व साझा करने के फॉर्मूला (आरएसएफ) को स्वीकार किया है । सी. रंगराजन समिति द्वारा ‘राजस्व साझा फॉर्मूला’ सूत्र का सुझाव दिया गया था, जिसे चीनी क्षेत्र को मूल्य अस्थिरता से बचाने और समय पर उत्पादकों को भुगतान करने में मदद करने के लिए स्थापित किया गया था। लेकिन अभी तक प्रतीत होता है कि, यह फार्मूला काफी हद तक केवल कागज पर बना हुआ है।

…क्या है सी. रंगराजन समिति फार्मूला?

सी. रंगराजन समिति ने सुझाव दिया था कि, उत्पादक और मिल के बीच राजस्व साझा किया जाना चाहिए। ‘आरएसएफ’ की गणना शुरुआती स्टॉक (सीजन की शुरुआत में मिल के साथ चीनी स्टॉक) के राजस्व में कटौती (सीजन के समाप्त होने के बाद चीनी स्टॉक) और सीजन के दौरान बिक्री प्राप्तियों को जोड़ने के द्वारा की जाती है।

75 प्रतिशत की कमाई उत्पादकों को मिलेगी…

पैनल ने सुझाव दिया था कि, चीनी की कुल बिक्री का 75 प्रतिशत की कमाई उत्पादकों के पास होनी चाहिए, जबकि बाकी 25 प्रतिशत को चीन मिल के पास अपने परिचालन खर्च के रूप में रहना चाहिए। जबकि समिति की सिफारिशों को पहली बार 2013-14 में स्वीकार कर लिया गया था और इसे 2016-17 सत्र के लिए बेहतर प्राप्तियों के कारण लागू किया गया था।

20 मिलों ने अभी तक ‘आरएसएफ’ भुगतान नहीं किया

‘आरएसएफ’ पर निर्णय लेने के लिए केन कंट्रोल बोर्ड (सीसीबी) अंतिम अधिकार था। राज्य के मुख्य सचिव की अध्यक्षता में, सीसीबी में दोनों उत्पादकों और मिलर्स समूहों के प्रतिनिधि हैं । 2016-17 सत्र के लिए, सीसीबी ने 96 करोड़ रुपये के ‘आरएसएफ’ भुगतान को अंतिम रूप दिया था। हालांकि, बोर्ड की हाल की बैठक में, यह पता चला था कि 29 मिलों में से 20 मिलों ने अभी तक ‘आरएसएफ’ के अपने हिस्से का भुगतान नहीं किया है। बैठक के दौरान, यह निर्णय लिया गया कि, एक लेखा परीक्षक के साथ विशेषज्ञों की एक विशेष समिति ‘आरएसएफ’ के तरीके की समीक्षा करेगी।

कुछ मिलों द्वारा ‘आरएसएफ’ की गणना के तरीके पर चिंता

कई मिलों ने जिस तरीके से ‘आरएसएफ’ की गणना की है, उसे चुनौती दी है, लेकिन अदालत ने किसी भी मामले में कोई भी स्थाई आदेश जारी नहीं किया है। नाम उजागर न करने की शर्त पर बोलते हुए, कुछ मिलर्स ने ‘आरएसएफ’ की गणना के तरीके पर चिंता व्यक्त कि है । 2016-17 के सत्र के दौरान तेज कीमत में अस्थिरता के चलते चीनी एक्स-मिल की कीमते 36 रुपये प्रति किलोग्राम के ऊपर चली गई थी । उस साल गन्ने की कमी के कारण, कई मिलों ने उस साल मौसम नहीं लिया था, लेकिन अभी भी उनके पास चीनी का बड़ा स्टॉक है । एक चीनी मिल जिसने गन्ना क्रशिंग मौसम नहीं लिया था, लेकिन ‘आरएसएफ’ के मुताबिक, बेचा गया स्टॉक था, उसे बड़ी राशि का भुगतान करना था। पुणे की एक मिलर ने कहा की, जिस तरीके से आरएसएफ की गणना की गई थी, वह गलत थी ।

…उन्हें गन्ना क्रशिंग लाइसेंस जारी नहीं किया जाना चाहिए

इस बीच, 2017-18 सीज़न के लिए आरएसएफ की गणना अभी तक की जा रही है। स्वाभिमानी शेतकरी संघठन की नांदेड इकाई के अध्यक्ष प्रल्हाद इंगोले ने कहा कि, आरएसएफ भुगतान में देरी करना उचित नहीं था। उन्होंने कहा, जिन मिलों का भुगतान असाधारण रूप से उच्च होता है, उनके लिए विशेष अपवाद भी किए जा सकते हैं। इंगोले ने यह भी कहा कि, जो मिलें आरएसएफ भुगतान को चुकाने में विफल रहती हैं, उन्हें गन्ना क्रशिंग लाइसेंस जारी नहीं किया जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here